प्रोलिंगो न्यूज डेस्क: 'आसुरी शक्तियों' के लिए हिंदी में एक बहुत चला हुआ, आधुनिक शब्द है माफ़िया। हिंदी अखबारों में, राजीनितिक भाषणों में, आपस की बातचीत में हम अक्सर यह शब्द सुनते हैं। कई सारे जटिल अर्थों को खुद में समाहित कर उसे अभिव्यक्ति देने वाला माफिया कम से कम हिंदी पत्रकारिता में बहुत काम का शब्द है। किसी खबर में यह शब्द है तो पाठक जान लेता है कि किसी नियोजित, सं​घटित, गैर—कानूनी कार्य व्यापार को अंजाम देने वाले व्यक्ति की बात हो रही है। 

माफ़िया शब्द की उत्पत्ति के दो स्रोत बताए जाते हैं। पहला तेरहवीं सदी में इटली पर फ्रांसिसियों के आक्रमण से जुड़ा हुआ है। दक्षिणी इटली का एक प्रमुख प्रांत है सिसली। फ्रांस ने 1282 में सिसली पर आक्रमण कर दिया था। उन फ्रांसीसी हमलावरों के खिलाफ सिसली के निवासियों ने इटेलियन में एक नारा गढ़ा था- 'मोर्टे अल्ला फ्रेंसिया इटेलिया अनेला' जिसका संक्षिप्त नाम बना 'माफिया'(M.A.F.I.A)। इसका अर्थ था — फ्रांसिसियों की मौत ही इटली की आवाज ('डेथ टू द फ्रेंच इज इटलीज क्राई!') है। तेरहवीं सदी में सिसली पर अरब ताकतों का शासन था। अरेबिक भाषा में माफिया का अर्थ रिफ्यूज या शरण है। अरब शासकों को खदेड़ने के लिए स्थानीय सिसली लड़ाके गुरिल्ला संघर्ष करते थे और बचने के लिए शरण लेते थे। इस तरह इस ग्रुप के लोगों को माफिया कहा जाने लगा। 

दूसरा स्रोत भी इटली की पृ​ष्ठभूमि का ही है। उन्नीसवीं सदी में जब औद्योगीकरण चरम पर था तब सामाजिक—आर्थिक बदलावों के चलते इटली में ऐसे सं​गठित गिरोह उभरने लगे जो अवैध तरीकों से संपत्ति अर्जन कर रहे थे। 1865 में सिसली पुलिस ऐसे गिरोहों के लिए '​माफिया' शब्द का उपयोग कर रही थी। इटली में यह पहली बार था जब ​माफिया शब्द ने नकारात्मक अर्थ ग्रहण किया था। इससे पहले तक ​माफ़िया एक तरह से राष्ट्रवादी अर्थों में या ताकत, बल के अर्थ में प्रयुक्त हुआ था। गौरतलब है कि यह शब्द इटली में पॉपुलर आर्ट का हिस्सा भी बना था। 1863 में नाटककार गुइसेप्पे रिज्जोतो ने एक नाटक लिखा था। दो दशकों में इस नाटक के दो हजार प्रदर्शन हुए। उस नाटक ने भी माफिया का एक सकारात्मक अर्थ दिया था: सौन्दर्य, विशिष्ट, श्रेष्ठ, शौर्य, मर्दानगी आदि। लेकिन बाद के दिनों में माफिया बदनाम हो गया। 

भारत में ​माफ़िया नकारात्मक अर्थों के साथ ही आया। सं​गठित लड़ाके भारत में भी थे, लेकिन किसी लॉ एंड आर्डर को चुनौती देने वाले गिरोह के अर्थों में तो माफिया शब्द ने ही काम करना शुरू किया। इटली से उधार या व्यवहार में आए इस शब्द ने हिंदी की कई सारी मुश्किलें आसान कीं। अपराध, राजनीति, साहित्य कोई भी क्षेत्र ऐसा नहीं बचा जहां माफिया न हों। कोयला माफिया, अवैध खनन माफिया, टेंडर ​माफिया, अपहरण उद्योग माफिया, किडनैपिंग ​माफिया, इंटरनेशनल माफिया जैसे अपराध जगत के लोकप्रिय शब्दों के साथ ही माफिया की घुसपैठ राजनीति, साहित्य तक है। क्या हिंदी में किसी ऐसे शब्द का संधान संभव है जो इतने सारे अर्थों पर एक साथ फिट बैठे? शायद नहीं। एक ​माफिया ने हिंदी में कितना बड़ा काम किया है, इसे समझा जा सकता है।

2 Comments

  1. हिंदी पत्रकारों के लिए अच्छी जानकारी।यह तो मालूम था कि यह शब्द इटली के संगठित अपराध गिरोह के लिए प्रयुक्त होता है,लेकिन इतना विस्तार से नहीं।

    ReplyDelete
  2. ऐसी पोस्ट फेसबुक पर भी डाली जानी चाहिए,वहां इसके पाठक अधिक होंगे।

    ReplyDelete

Post a Comment

Previous Post Next Post